उमरिया में नदी पार कर मुक्तिधाम तक अर्थी ले जाते हैं लोग

उमरिया के ज्वालामुखी क्षेत्र में नदी पार करके मुक्तिधाम तक अर्थी ले जाई जाती हैं। अर्थी ले जाते समय लोगों को काफी संभालना पड़ता है, क्योंकि नदी में कमर से ऊपर तक पानी है।

पानी के कारण खतरा बना रहता है, लेकिन अंतिम संस्कार के लिए अर्थी को मुक्तिधाम तक ले जाने की मजबूरी की वजह से इस खतरे को लोग नजरअंदाज कर देते हैं।

हो चुकी है मांग: ऐसा नहीं है कि इस नदी पर पुल बनाने की मांग लोगों ने नहीं की और प्रशासन ने आश्वासन नहीं दिया। लेकिन मांग और आश्वासन के बावजूद आज तक इस नदी पर श्मशान घाट के पास पुल का निर्माण नहीं किया गया। यही कारण है कि लोगों को मजबूरी में नदी पार करके अर्थियां मुक्तिधाम तक ले जानी पड़ती है।

सालों से हो रहा है अंतिम संस्कार: उमरिया के ज्वालामुखी क्षेत्र में उमरार नदी के दूसरी तरफ 100 साल से ज्यादा समय से अंतिम संस्कार होता आ रहा है। यहां की यह पुराना मुक्तिधाम है। पुराने जमाने से यहां रह रहे लोगों का इससे मुक्तिधाम के प्रति इसलिए श्रद्धा बनी हुई है क्योंकि उनके बुजुर्गों का अंतिम संस्कार भी इसी मुक्तिधाम पर हुआ। यही कारण है कि लोग नदी पार करके इस मुक्तिधाम तक अर्थियां ले जाते हैं।

चलना पड़ता है संभल के: ज्वालामुखी क्षेत्र के उमरार नदी के घाट को जवारा घाट भी कहा जाता है। क्योंकि यही नवरात्रि के जवारा विसर्जन होते हैं। पास में ही ज्वालामुखी माता का मंदिर है जहां नवरात्रि में बोय जाने वाले जवारा इसी घाट में विसर्जित किए जाते हैं। इस नदी को पार करने के बाद आगे श्मशान भूमि है जहां तक जाने के लिए लोगों को नदी में उतरना पड़ता है और काफी संभल संभल कर चल कर नदी पार करनी पड़ती है। कांधे पर अर्थी हो तो नदी के अंदर चलना कितना मुश्किल होता होगा इसका अनुमान इस क्षेत्र के लोगों ही लगा सकते हैं।

पुलिया का मिला आश्वासन: ज्वारा घाट में पुलिया निर्माण के लिए कई बार कलेक्टर और विधायक ने आश्वासन दिया लेकिन आज तक पुलिया का निर्माण यहां नहीं हो पाया। न जाने क्यों इस तरफ गंभीरता से ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जबकि यह बेहद महत्वपूर्ण स्थान है। भले ही उस पुलिया का इस्तेमाल हफ्ते महीने में हो लेकिन दूसरी तरफ श्मशान भूमि होने की वजह से यह पुलिया का क्या महत्व है यह तो स्थानीय लोग ही बता सकते हैं।

Related Articles

ग्राम निपानिया से मजरा लसुल्डी रोड डामरीकरण के कार्य सरपंच ने पूजन कर किया शुभारंभ

आगर मालवा जिले के ग्राम निपानिया बैजनाथ से लसुल्डी तक डामरीकरण का हुआ शुभारंभ जिसमे ग्राम निपानिया के सरपंच गजेंद्र सिंह राठौड़ ने पूजन...

दमोह के कुंडलपुर सिद्ध क्षेत्र और श्री जागेश्वर नाथ तीर्थ क्षेत्र पवित्र घोषित पृथ्वीपुर बना जिला निवाड़ी में नवीन अनुभाग सागर, सिंगरौली और भिंड...

आगर-मालवा, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में जिला दमोह के कुंडलपुर सिद्ध क्षेत्र और श्री जागेश्वर नाथ...

मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना की दी जानकारी

आगर-मालवा,  मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में 25 मार्च आवेदन पत्र भरें जाएंगे। कलेक्टर श्री कैलाश वानखेड़े के निर्देशानुसार ग्रामीण क्षेत्रों में मैदानी अमले द्वारा...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

ग्राम निपानिया से मजरा लसुल्डी रोड डामरीकरण के कार्य सरपंच ने पूजन कर किया शुभारंभ

आगर मालवा जिले के ग्राम निपानिया बैजनाथ से लसुल्डी तक डामरीकरण का हुआ शुभारंभ जिसमे ग्राम निपानिया के सरपंच गजेंद्र सिंह राठौड़ ने पूजन...

दमोह के कुंडलपुर सिद्ध क्षेत्र और श्री जागेश्वर नाथ तीर्थ क्षेत्र पवित्र घोषित पृथ्वीपुर बना जिला निवाड़ी में नवीन अनुभाग सागर, सिंगरौली और भिंड...

आगर-मालवा, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में जिला दमोह के कुंडलपुर सिद्ध क्षेत्र और श्री जागेश्वर नाथ...

मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना की दी जानकारी

आगर-मालवा,  मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में 25 मार्च आवेदन पत्र भरें जाएंगे। कलेक्टर श्री कैलाश वानखेड़े के निर्देशानुसार ग्रामीण क्षेत्रों में मैदानी अमले द्वारा...

पुलिस कर्मियों को प्रतिमाह 15 लीटर पेट्रोल भत्ता देने पर वित्त विभाग ने लगाई रोक वित्त विभाग ने रोक लगाने के साथ दिया तर्क,...

भोपाल। प्रदेश में कानून व सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने में अहम भूमिका निभाने वाले पुलिस कर्मियों को प्रतिमाह 15 लीटर पेट्रोल भत्ता देने पर...

चैत्र नवरात्रि का पहला दिन आज, देशभर में मंदिरों में श्रद्धालुओं का दिखा उत्साह

बुधवार को चैत्र नवरात्र पर्व की शुरुआत हो गई। आज से नौ दिन तक मंदिरों में मातारानी की आराधना में विशेष अनुष्ठान होंगे। घरों...