वास्तु के अनुसार घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में इसे गर्म न करें

0
132

वास्तु शास्त्र में दिशाओं का विशेष महत्व है। वही घर में रखी हर वस्तु को सही दिशा में रखना चाहिए। जब चीजें गलत दिशा में रखी जाती हैं तो इसका घर के लोगों के जीवन पर बुरा असर पड़ सकता है।

क्योंकि हर दिशा से सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा निकलती है। यदि कोई वस्तु गलत दिशा में रखी है तो उस दिशा से नकारात्मक ऊर्जा अधिक निकलेगी और नकारात्मक प्रभाव डालेगी।

जब दिशाओं की बात आती है तो बहुत से लोग पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण के बारे में सोचते हैं। लेकिन घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में कुछ वस्तुएं रखने से उस घर पर अशुभ प्रभाव पड़ता है।

क्योंकि दक्षिण-पश्चिम दिशा को राहु-केतु की दिशा माना जाता है। इसलिए इस दिशा में जो भी चीजें रखें वास्तु का ध्यान जरूर रखें। आइए अब जानते हैं कि घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में क्या नहीं रखना चाहिए।

पूजा कक्ष नहीं होना चाहिए

वास्तु के अनुसार पूजा घर घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में नहीं रखना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस दिशा में देवी-देवताओं की पूजा करने से कोई अच्छा फल नहीं मिलता है। महत्वपूर्ण बात यह है कि मन हमेशा इस दिशा में सुसंगत नहीं होता है। इस दिशा में पूजा कक्ष रखकर देवताओं की पूजा करने पर आपको मन को एकाग्र न कर पाने और पूजा करने में कठिनाई का सामना करना पड़ेगा।

कोई वाचनालय नहीं

यदि आपके घर पर बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं तो उनका अध्ययन कक्ष इस दिशा में न बनाएं। क्योंकि इस दिशा में मन एकाग्र होकर भटकता है। और अगर बच्चे इस दिशा में बैठकर पढ़ाई करेंगे तो उन्हें कुछ भी याद नहीं रहेगा। इसलिए इस दिशा में बच्चों का अध्ययन कक्ष नहीं बनाना चाहिए।

अतिथि कक्ष नहीं होना चाहिए

घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में कभी भी अतिथि कक्ष नहीं बनाना चाहिए। क्योंकि यह दिशा राहु और केतु की दिशा है। यदि इस दिशा में मेहमानों को ठहराया जाता है, तो निवासियों के मूड और व्यवहार में अचानक बदलाव आएगा और उन्हें मेहमानों के साथ झगड़े का सामना करना पड़ेगा। तो ये गलती ना करें.

पानी की टंकी नहीं होनी चाहिए

घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में भूमिगत पानी की टंकी नहीं रखनी चाहिए। अन्यथा यह घर में वास्तु दोष उत्पन्न कर देगा। परिणामस्वरूप परिवार के सदस्यों को विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ेगा और जीवन में कठिनाइयां बढ़ेंगी।

शौचालय नहीं होना चाहिए

वास्तु के अनुसार घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में शौचालय नहीं रखना चाहिए। ऐसे स्थापित करने से घर में नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। इससे गृहस्वामी की उन्नति में बाधा आएगी और गृहस्वामी अक्सर बीमार रहेगा। मेडिकल पर बहुत खर्चा आएगा.